Search
Add Listing

City Page Salasar 8181903500 rajasthanlink.com@gmail.com

मुझे यह जानकर प्रसन्नता हुई कि वर्तमान डिजिटल दौर में Rajasthanlink.com वेब पाॅर्टल द्वारा सालासर का डिजिटल पेज के माध्यम से श्री सालासर बालाजी के इतिहास के बारे में जन - जन तक पहुँचाने का कार्य किया जा रहा हैं .....

View More

मुझे यह जानकर प्रसन्नता हुई कि Rajasthanlink.com वेब पाॅर्टल द्वारा सालासर कस्बे को डिजिटल किया जा रहा है। इस डिजिटल पेज पर श्री बालाजी महाराज के इतिहास व कस्बे से जुड़ी हर जानकारी हर कोई चाहने वाले को मिल सकेगी .....

View More

सालासर ग्राम पंचायत श्री बालाजी महाराज की ख्याति के साथ - साथ विश्व विख्यात है। मैं सरपंच होने के नाते यहां आने वाले दर्शनार्थियों एवं ग्रामवासियों के प्रति हार्दिक शुभकामनाऐं व Rajasthanlink.com वेब पाॅर्टल द्वारा सालासर कस्बे का डिजिटल .....

View More

हमारे इष्टदेव श्री बालाजी महाराज के स्थापना से लेकर अब तक इतिहास तिपिबद्ध है, किन्तु आमजन तक इसकी जानकारी न होने से प्रत्येक दर्शनार्थीयों की जिज्ञासा इसे जानने की रहती है। Rajasthanlink.com वेब पाॅर्टल द्वारा सालासर का डिजिटल .....

View More

यह हर्ष का विषय है कि Rajasthanlink.com वेब पाॅर्टल सालासर को डिजिटल प्लेटफाॅर्म प्रदान करेगा। जिससे हर छोटी बड़ी संस्था, व्यापारी व अन्य को वर्तमान डिजिटल युग के साथ हर जानकारी को आॅनलाइन करने का प्लेटफाॅर्म मिलेगा। .....

View More

E - Mitra Center In Salasar

Hardware Item Shop In salasar

Contact List

पुलिस थाना सालासर : 01568-252019
थानाधिकारी सालासर : 9530419376
नायब तहसीदार सालासर :
श्री हनुमान सेवा समिति सालासर : 01568-252010
राजकीय चिकित्सालय सालासर : 01568-253000
सृजन अस्पताल सालासर : 01568-252333
अंजनी माता मंदिर सालासर : 01568-252288
आयुर्वेदिक भवन सालासर : 01568-252444
जलदाय विभाग सालासर : 01568-252113
विधुत विभाग सालासर : 01568-252087
ग्राम पंचायत सालासर : 01568-252584
डाक घर सालासर : 01568-252211
श्री बालाजी गोशाला सालासर : 01568-252794
एस बी आई बैंक सालासर : 01568-252005
पी एन बी बैंक (जुलियासर) सालासर : 01570-296265
पी एन बी बैंक सालासर : 01568-252951
बड़ोदा (देना) बैंक सालासर : 01568-252931
बी एस एन एल कार्यालय सालासर : 01568-252000
पत्रकार मनोज मिश्रा : 9950106006
पत्रकार भरत सैन : 9660909601
पत्रकार विधाधर शर्मा : 9414400210
पत्रकार बाबूलाल राव : 7023117531
गुरुधाम सालासर : 8952899999
अंजनी माता मंदिर सालासर

अंजनी माता मंदिर सालासर

सालासर बालाजी धाम से 1 किमी. पूर्व दिशा में अंजनी माता का मन्दिर स्थित है। मन्दिर की स्थापना पं. पन्नारामजी भजनी द्वारा की गई। स्वपनादेश पाकर पन्नारामजी मातेश्वरी की अराधना में लग गये तथा तलाई में सम्वत् 2020 ज्येष्ठ बदी पंचमी सोमवार को सीकर रावराजा कल्याणसिंहजी ने अंजनी माता मन्दिर बनवाया तथा मूर्ति को प्राण प्रतिष्ठ की। इस मंदिर में माँ अंजनी की गोद मे बाल हनुमान विराजित है। शनैः शनैः यहाँ भी दर्शनार्थियों का आवागमन बढ़ता जा रहा है।

Best Coaching Classes in Rajasthan

राजस्थान के प्रसिद्ध मंदिर

राजस्थान के प्रसिद्ध मंदिर

राजस्थान भारत का बहुत ही धार्मिक और संस्कृति वाला राज्य है जहां आज भी लोग पूजा अर्चना में बहुत विश्वास रखते है। राजस्थान का हर मंदिर अपनी अलग विशेषता के साथ प्रदेश में आकर्षण का केंद्र बने हुए है। जिनके दर्शन करने हर रोज हजारों की संख्या में भक्त पहुंचते हैं। अगर आप राजस्थान के सभी प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो हमारे इस लेख को अंत तक जरूर पढ़े जिसमे हम आपको राजस्थान के सबसे प्रसिद्ध मंदिर के बारे में बताने जा रहे है.....

राजधानी जयपुर के दर्शनीय स्थल

राजधानी जयपुर के दर्शनीय स्थल

राजस्थान राज्य की राजधानी पिंक सिटी के नाम से मशहूर जयपुर भारत का एक खूबसूरत पुराना शहर है। जयपुर समृद्ध वास्तुकला विरासत का अद्भुत नमूना है। जयपुर में आपको विरासत देखने को मिलेंगी। यहां राजसी इमारतें, वीरता की लड़ाइयों के किस्से, शानदार किले और महलों को देखने का अनुभव होगा। पिंक सिटी में आप हवा महल, सिटी पैलेस, आमेर फोर्ट, जंतर मंतर, अनेक प्रसिद्ध मंदिर, गार्डन जैसे मशहूर पर्यटन स्थलों का भ्रमण कर सकते हैं।

राजस्थान के महशुर किले, हवेलियां और महल

राजस्थान के महशुर किले, हवेलियां और महल

राजस्थान पर्यटन का पर्यावाची है, हर साल लाखों की तादाद में देशी और विदेशी पर्यटक इस खूबसूरत राज्य की यात्रा पर आते हैं। अपने वैभव शाली महलों और हवेलियों के लिए विख्यात राजस्थान पहले राजपुताना नाम से जाना जाता था। रंग - रंगीला राजस्थान अपनी खूबसूरती व रजवाड़ी शान के प्रतीक किलों और महलों के कारण हमेशा ही देश - विदेश के पर्यटकों के आकर्षण का प्रमुख केन्द्र रहा है। राजस्थान की पहचान उसके मूल निवासियों की सरल जीवनशैली व यहां की धरोहर है। राजस्थान को रंगों की धरती भी कहा जाता है। हम आपको राजस्थान के खूबसूरत किलों और महलों के बारें में बताते है।

Rajasthanlink.com
राजस्थान के प्रमुख पर्यटन स्थल

राजस्थान के प्रमुख पर्यटन स्थल

अपनी रंगीन संस्कृति को बिखेरते हुए राजस्थान राज्य ने सिर्फ राष्ट्रीय पर्यटकों को ही नहीं बल्कि अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों को भी आकर्षित किया है। जयपुर की शानदार हवेलियों से लेकर, उदयपुर की झीलों तक, मंदिरों से लेकर जैसलमेर व बीकानेर के बालू टिब्बों तक-सब कुछ देखने लायक है। यहाँ के लोक गीत व लोकनृत्य भी अपनी स्थानीय संस्कृति को अस्तित्व में बनाए रखने के लिए पूरा सहयोग करते है। राजस्थान के प्रमुख पर्यटन स्थल के बारे में जानने के लिए जुड़े रहिये हमारे पेज से.....

राजस्थान के राष्ट्रीय उद्धान एवं वन्य जीव अभयारणय

राजस्थान के राष्ट्रीय उद्धान एवं वन्य जीव अभयारणय

अभयारण्य का अर्थ है अभय + अरण्य। अर्थात अभय घूम सकें जानवर, ऐसा अरण्य या वन। सरकार अथवा किसी अन्य संस्था द्वारा संरक्षित वन, पशु-विहार या पक्षी विहार को अभयारण्य कहते हैं। केंद्र सरकार एवं राज्य सरकरों ने राष्ट्रीय उद्यान एवं वन्य जीव पशु विहार स्थापित किए। हम आपको राजस्थान के राष्ट्रीय उद्धान एवं वन्य जीव अभयारणयों के बारे में बताते है।

राजस्थान का परिचय

राजस्थान का परिचय

राजस्थान भारत देश के बड़े प्रान्तों में से एक है। जिसकी स्थापना 30 मार्च 1949 को हुई। जिसका कुल क्षेत्रफल 3,42,239 वर्ग किलोमीटर है। उत्तर से दक्षिण तक लम्बाई 826 किमी. है। उत्तर में गंगानगर जिले का कोणा गांव व दक्षिण में बांसवाड़ा जिले का बोरकुण्ड गांव स्थित है। पूर्व से पश्चिम तक चैड़ाई 869 किमी. है। पूर्व में धौलपुर जिले का सिलाना गांव व पश्चिम में जैसलमेर जिले का कटरा गांव स्थित है। राजस्थान में 33 जिले है जिसको सात संभागों में बांटा गया है।